जमीयत का EC को पत्र! यहां प्रस्तावित धर्म संसद पर रोक लगाने की मांग की

जमीयत का EC को पत्र! यहां प्रस्तावित धर्म संसद पर रोक लगाने की मांग की

मुस्लिमों की प्रमुख संस्था जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने गुरुवार को कहा कि उसने चुनाव आयोग और जिला अधिकारी को पत्र लिखकर अलीगढ़ में प्रस्तावित धर्म संसद पर रोक लगाने की मांग की है।

जमीयत ने अपने पत्र में कहा कि अलीगढ़ में 22 और 23 जनवरी को या किसी अन्य स्थान पर किसी अन्य तारीख पर प्रस्तावित धर्म संसद के आयोजन पर प्रतिबंध लगे। 

संस्था ने ''आदतन हेट स्पीच (समाज में वैमनस्यता फैलाने वाले भाषण देने वालों) देने वालों, गैर कानूनी कार्यवाही में संलिप्त रहने वालों पर कार्रवाई की मांग की और कहा कि शांतिपूर्ण और निष्पक्ष चुनाव कराना चुनाव आयोग की प्राथमिक जिम्मेदारी है।'' जमीयत ने अपने पत्र में लिखा, ''ये लोग स्पष्ट रूप से धर्म संसद का आयोजन चुनाव के दौरान समाज में साम्प्रदायिक तनाव फैलाने के लिए कर रहे हैं और उन्हें रोका जाना चाहिए।'' 

छात्र नेता ने जिला प्रशासन से की थी आयोजन को अनुमति नहीं देने की मांग अलीगढ़ में धर्म संसद के आयोजन की अनुमति नहीं देने की मांग करने के लिए अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) के छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष सलमान इम्तियाज की अगुआई में एक दल ने पिछले सप्ताह जिला प्रशासन से मुलाकात की थी। उनका दावा था कि इससे चुनावी राज्य उत्तर प्रदेश में माहौल गर्मा सकता है।

सनातन हिंदू सेवा संस्था ने अलीगढ़ में धर्म संसद के आयोजन का प्रस्ताव रखा है, जिसका मुख्य विषय वर्तमान राजनीति में साधु की भूमिका है। अलीगढ़ जिला प्रशासन ने हालांकि ऐसे किसी भी कार्यक्रम के आयोजन से संबंधित कोई लिखित आवेदन नहीं मिला है।


Makar Sankranti 2022: बाजारों में पंजाबी चिक्की, रामदाना समेत इन चीजों की बढ़ी डिमांड

Makar Sankranti 2022: बाजारों में पंजाबी चिक्की, रामदाना समेत इन चीजों की बढ़ी डिमांड

मकर संक्रांति पर्व को लेकर थोक और फुटकर बाजारों में ग्राहकों की रौनक रही। गजक, तिल के लड्डू, पंजाबी चिक्की, रामदाना समेत गुड़ और शक्कर के बने उत्पादों की अच्छी बिक्री हुई।

नया चावल और उड़द-मूंग की दाल भी खूब बिकी। हालांकि, बाजार में महंगाई की मार भी दिखी। सोशल डिस्टेंसिंग धड़ाम रही, तमाम ग्राहक मास्क तक नहीं लगाए थे। 

कानपुर नमकीन, बेकरी, गजक, पेठा एसोसिएशन के अध्यक्ष निर्मल त्रिपाठी ने बताया कि पिछले साल की तुलना में गुड़ और शक्कर के दाम बढ़े हैं। पिछले साल की तुलना में करीब 10-15 फीसदी दाम तेज हैं। गुड़ की गजक 240 रुपये किलो बिकी। गुड़ रोल और पंजाबी चिक्की का भाव 260 रुपये किलो रहा।

काले तिल का लड्डू 280 और सफेद तिल का लड्डू 260 रुपये किलो में बिका। बाजार में ग्राहकों की पसंद को देखते हुए चॉकलेट, खोवा, मेवा गजक भी हैं। इसके दाम अलग-अलग क्वालिटी के अनुसार 400 से 600 रुपये किलो तक है। महामंत्री शंकर लाल मतानी ने बताया कि बाजार में अच्छी संख्या में ग्राहक थे।

दोनों प्रकार के तिल के लड्डू, रामदाना, लइया की भी अच्छी डिमांड देखने को मिली। चावल और दाल कारोबारी सचिन त्रिवेदी ने बताया कि खिचड़ी में नया चावल ही इस्तेमाल में आता है। इसके चलते चावल और दालों की अच्छी बिक्री हुई।