बागपत में एक किसान की हुई गोली मारकर क़त्ल

बागपत में एक किसान की हुई गोली मारकर क़त्ल

लखनऊ: यूपी के बागपत में चांदीनगर थाना क्षेत्र में किसान की गोली मारकर क़त्ल कर दिया है उस समय किसान खेत में भिंडी की फसल की पहरेदारी कर रहा था जब परिजन सुबह खेत में कार्य करने गए तो किसान का खून से लथपथ मृत शरीर चारपाई पर पाया गया मृत शरीर के पास से तीन खाली खोखे और एक जिंदा कारतूस भी पाया गया है घटना के उपरांत गांव और परिजनों में दहशत है

मृतक किसान का नाम मदन बोला जा रहा है 67 वर्ष के मदन चांदीनगर थाना के मंसूरपुर गांव के निवासी थे उन्होंने खेत में भिंडी की फसल की बुआई की थी, जिसकी रखवाली करने के लिए रोज रात खेत में सोने जाते थे गुरुवार रात भी फसल की रखवाली करने वो खेत के ही गए हुए थे रात में किसी वक़्त अज्ञात हमलावरों ने चारपाई पर सो रहे मदन के सिर में गोली मारकर मृत्यु के घाट उतार दिया है सुबह खेत पर पहुंचे गांव के किसानों ने खून से लथपथ मृत शरीर पड़ा देखकर परिजनों और पुलिस को सूचना दी गई

पुलिस की पूछताछ में मृतक किसान के बेटे ने बोला है कि रात पहरा देने के लिए वे खेत में आए थे और जब वह सुबह आए तो उनका चारपाई पर मृत शरीर पड़ा हुआ पाया गया था हमारी किसी से आपसी दुश्मनी भी नहीं थी एसपी बागपत नीरज जादौन ने कहा है कि मृत शरीर के पास से तीन खाली खोखे और एक जिंदा कारतूस भी जब्त  की गई है मृत शरीर को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा गया है अज्ञात हमलावरों के विरूद्ध मुकदमा दर्ज कर लिया गया है और उनकी तलाश की जाने लगी है


जानिए कितने लाख करोड़ रुपए का बजट पेश किये योगी सरकार

जानिए कितने लाख करोड़ रुपए का बजट पेश किये योगी सरकार

उत्तर प्रदेश के इतिहास का सबसे बड़ा बजट गुरुवार को विधानसभा में योगी गवर्नमेंट 2.O ने पेश किया. वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने करीब डेढ़ घंटे तक बजट भाषण पढ़ा तो इसमें से कई बड़ी घोषणाएं निकलीं. आइए आपको इस बजट का पूरा गणित बताते हैं कि गवर्नमेंट को कहां से कितनी आदमनी होगी और कहां कितना खर्च किया जाएगा. वित्त मंत्री ने बोला कि वित्त साल 2022-23 का बजट 6,15,518.97 लाख करोड़ रुपए का है. बजट में 39 हजार 181 करोड़ 10 लाख रुपए की नयी योजनाएं शामिल हैं.

कहां से कितना पैसा मिलेगा
वित्त मंत्री ने हिसाब-किताब पेश करते हुए बोला कि कुल प्राप्तियां 5 लाख 90 हजार 951 करोड़ 71 लाख रुपये अनुमानित है. कुल प्राप्तियों में 4 लाख 99 हजार 212 करोड़ 71 लाख रुपए राजस्व से आएंगे. 91 हजार 739 करोड़ रुपये की पूंजीगत प्राप्तियां सम्मिलित हैं. राजस्व प्राप्तियों में टैक्स रेवेन्यू का अंश 03 लाख 67 हजार 153 करोड़ 76 लाख रुपये है. इसमें स्वयं का टैक्स रेवेन्यू 02 लाख 20 हजार 655 करोड़ रुपहै, जबकि केंद्रीय करों में राज्य का अंश 01 लाख 46 हजार 498 करोड़ 76 लाख रुपए होने का अनुमान है. 

कितना होगा खर्च
वित्त मंत्री ने बोला कि वित्त साल में कुल व्यय 06 लाख 15 हजार 518 करोड़ 97 लाख रुपए अनुमानित है. कुल व्यय में  04 लाख 56  हजार 89 करोड़ 6 लाख रुपए राजस्व लेखे का व्यय है और 91 हजार 739 करोड़ रुपए पूंजी लेखे का व्यय है .

कितना घाटा 
वित्त मंत्री ने बताया कि समेकित निधि की प्राप्तियों से कुल व्यय घटाने के बाद 24 हजार 567 करोड़ 26 लाख रुपए का घाटा अनुमानित.

लोक लेखा
लोक लेखे से 6 हजार करोड़ रुपये (6000 करोड़ रुपये) की शुद्ध प्राप्तियां अनुमानित.

समस्त लेन-देन का शुद्ध परिणाम 
समस्त लेन-देन का शुद्ध रिज़ल्ट 18 हजार 567 करोड़ 26 लाख रुपये (18,567.26 करोड़ रुपये) ऋणात्मक अनुमानित. 

अन्तिम शेष
प्रारम्भिक शेष 40 हजार 550 करोड़ 03 लाख रुपए को हिसाब में लेते हुए आखिरी शेष 21 हजार 982 करोड़ 77 लाख रुपए अनुमानित.

राजस्व बचत 
राजस्व बचत 43 हजार 123 करोड़ 65 लाख रुपए अनुमानित है. 

राजकोषीय घाटा
राजकोषीय घाटा 81 हजार 177 करोड़ 97 लाख रुपए अनुमानित है जो साल के लिए अनुमानित सकल राज्य घरेलू उत्पाद का 3.96 फीसदी है.