अलग-अलग पंथ पर सबका लक्ष्य वसुधैव कुटुंबकम: योगी

अलग-अलग पंथ पर सबका लक्ष्य वसुधैव कुटुंबकम: योगी

उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने बोला कि हिंदुस्तान में भिन्न-भिन्न पंथ और समुदाय हैं लेकिन यह विभाजन के लिए नहीं हैं यह लक्ष्य तक पहुंचने के लिए भिन्न-भिन्न मार्ग हैं लक्ष्य सबका एक ही है वसुधैव कुटुंबकम सबका एक ही संकल्प है तेरा वैभव अमर रहे मां, हम दिन चार रहें न रहें 

सीएम ने बोला है कि हम सभी को सदैव धर्म के मार्ग पर चलकर उसका अनुसरण करना चाहिए पूरे हिंदुस्तान को पीएम मोदी का नेतृत्व मिल रहा है यही कारण है कि आज नयी ऊर्जा के साथ हिंदुस्तान आगे बढ़ रहा है सीएम योगी शुक्रवार को वाराणसी स्थित जंगमबाड़ी मठ में आयोजित श्री श्री श्री 1008 जगद्गुरु ज्ञानसिंहासनाधीश्वर डाक्टर मल्लिकार्जुन विश्वाराध्य शिवाचार्य महास्वामी जी, काशीपीठ के पट्टाभिषेक कार्यक्रम में अपने विचार रख रहे थे संतगणों, धमार्चार्यों की गरिमामयी मौजूदगी में उन्होंने बोला कि प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी नेतृत्व में काशी विश्वनाथ मंदिर का अलौकिक कायाकल्प हुआ है ठीक इसी तरह का कार्य अयोध्या में भी हो रहा है भगवान राम का भव्य मंदिर बन रहा है

जंगमबाड़ी मठ में हुआ मुख्यमंत्री योगी का स्वागत

अयोध्या में राष्ट्र के हर पंथ और संप्रदाय के अनुयायियों के लिए अपनी धर्मशाला और मठ स्थापित करने के लिए अलग से भूमि आवंटन का काम प्रारम्भ होने वाला है इससे पहले, जंगमबाड़ी मठ पहुंचने के बाद मुख्यमंत्री योगी का औपचारिक स्वागत किया गया मठ में दीप प्रज्वलित कर योगी ने आयोजन की औपचारिक शुरूआत की इस दौरान सीएम को मठ प्रशासन की ओर से प्रसाद व धार्मिक वस्तुएं भेंट की गईं


जानिए कितने लाख करोड़ रुपए का बजट पेश किये योगी सरकार

जानिए कितने लाख करोड़ रुपए का बजट पेश किये योगी सरकार

उत्तर प्रदेश के इतिहास का सबसे बड़ा बजट गुरुवार को विधानसभा में योगी गवर्नमेंट 2.O ने पेश किया. वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने करीब डेढ़ घंटे तक बजट भाषण पढ़ा तो इसमें से कई बड़ी घोषणाएं निकलीं. आइए आपको इस बजट का पूरा गणित बताते हैं कि गवर्नमेंट को कहां से कितनी आदमनी होगी और कहां कितना खर्च किया जाएगा. वित्त मंत्री ने बोला कि वित्त साल 2022-23 का बजट 6,15,518.97 लाख करोड़ रुपए का है. बजट में 39 हजार 181 करोड़ 10 लाख रुपए की नयी योजनाएं शामिल हैं.

कहां से कितना पैसा मिलेगा
वित्त मंत्री ने हिसाब-किताब पेश करते हुए बोला कि कुल प्राप्तियां 5 लाख 90 हजार 951 करोड़ 71 लाख रुपये अनुमानित है. कुल प्राप्तियों में 4 लाख 99 हजार 212 करोड़ 71 लाख रुपए राजस्व से आएंगे. 91 हजार 739 करोड़ रुपये की पूंजीगत प्राप्तियां सम्मिलित हैं. राजस्व प्राप्तियों में टैक्स रेवेन्यू का अंश 03 लाख 67 हजार 153 करोड़ 76 लाख रुपये है. इसमें स्वयं का टैक्स रेवेन्यू 02 लाख 20 हजार 655 करोड़ रुपहै, जबकि केंद्रीय करों में राज्य का अंश 01 लाख 46 हजार 498 करोड़ 76 लाख रुपए होने का अनुमान है. 

कितना होगा खर्च
वित्त मंत्री ने बोला कि वित्त साल में कुल व्यय 06 लाख 15 हजार 518 करोड़ 97 लाख रुपए अनुमानित है. कुल व्यय में  04 लाख 56  हजार 89 करोड़ 6 लाख रुपए राजस्व लेखे का व्यय है और 91 हजार 739 करोड़ रुपए पूंजी लेखे का व्यय है .

कितना घाटा 
वित्त मंत्री ने बताया कि समेकित निधि की प्राप्तियों से कुल व्यय घटाने के बाद 24 हजार 567 करोड़ 26 लाख रुपए का घाटा अनुमानित.

लोक लेखा
लोक लेखे से 6 हजार करोड़ रुपये (6000 करोड़ रुपये) की शुद्ध प्राप्तियां अनुमानित.

समस्त लेन-देन का शुद्ध परिणाम 
समस्त लेन-देन का शुद्ध रिज़ल्ट 18 हजार 567 करोड़ 26 लाख रुपये (18,567.26 करोड़ रुपये) ऋणात्मक अनुमानित. 

अन्तिम शेष
प्रारम्भिक शेष 40 हजार 550 करोड़ 03 लाख रुपए को हिसाब में लेते हुए आखिरी शेष 21 हजार 982 करोड़ 77 लाख रुपए अनुमानित.

राजस्व बचत 
राजस्व बचत 43 हजार 123 करोड़ 65 लाख रुपए अनुमानित है. 

राजकोषीय घाटा
राजकोषीय घाटा 81 हजार 177 करोड़ 97 लाख रुपए अनुमानित है जो साल के लिए अनुमानित सकल राज्य घरेलू उत्पाद का 3.96 फीसदी है.