जब प्रियंका ने मुस्कराते हुए कहा- लबरा बड़ा कि दोंदा... तो हंस पड़ी भीड़

जब प्रियंका ने मुस्कराते हुए कहा- लबरा बड़ा कि दोंदा... तो हंस पड़ी भीड़

महोबा की प्रतिज्ञा रैली में कांग्रेस की महासचिव प्रियंका वाड्रा ने मुस्कराते हुए विपक्षियों पर तंज कसते हुए कहा कि बुंदेली कहावत है कि लबरा बड़ा कि दोंदा बड़ा.., तो आप जानते हैं कि कौन बड़ा। उनके द्वारा चंदेलकाल की बनाफरी कहावत बोलते ही भीड़ में बैठे लोग जोर से हंस पड़े। उन्होंने कहा कि योगी जी मोदी जी और भाजपा के सब नेता यहां आकर मंच पर खड़े होकर आपके सामने झूठा प्रचार करते हैं, बड़े-बड़े वचन देकर जाते हैं। आपने अब खुद परख लिया है कि उन वचनों को वो किस तरह से निभाते हैं।

प्रियंका ने कहा कि रैली में कहा कि आपने देखा है कि झूठे विज्ञापन देते हैं, कल ही आपने देखा होगा कि मोदी जी गए और उद्धाटन किया जेवर में एक बहुत बड़ा एयरपोर्ट बनेगा। सब भाजपा के नेता अपनी सोशल मीडिया पर फोटो लगाने लग गए, कि बहुत बढ़िया है ये जेवर का एयरपोर्ट। पता चला कि चीन की फोटो है और नोएडा में शिलान्यास करने गए थे। चीन के एयरपोर्ट की फोटो लगाते हैं, अमेरिका की फैक्ट्रियों की फोटो लगाते हैं अपने विज्ञापनों में, आंध्र प्रदेश के बांध की फोटो लगाते हैं। इन लोगों को कोई परवाह ही नहीं कि सच्चाई बोलनी चाहिये कि जनता के सामने आते हैं, उनको ये अहसास नहीं हो रहा है और न ही समझ पा रहे हैं कि जनता के प्रति कोई जवाबदेही भी है उनकी। वो समझ रहे हैं कि चुनाव में मंच पर झूठे वचन दें और उसके बाद आपको भूल जाएं। चुनाव जीत जाएं और उसके लिए कुछ भी प्रयोग हो सब ठीक है, धर्म का प्रयोग करेंगे जाति का प्रयोग करेंगे और अलग अलग प्रयोग करेंगे।

उन्होंने कहा कि अब कोई नहीं कहता कि जाति का अधिकार नहीं मिलना चाहिये, राजनीति में जाति का और धर्म का प्रतिनिधित्व पूरी तरह से होना चाहिये। लेकिन, चुनाव के समय आपके विकास के मुद्​दे की बात होनी चाहिये, जो भी नेता सामने आए और बताए कि आपके लिए क्या करने जा रहा है और चुनाव के बाद पांच साल में करके दिखाए। नहीं तो अगले चुनाव में उनको हराइए, ये बात जबतक नहीं समझेंगे और अलग अलग राजनीति के जाल में फंसे रहेंगे, तबतक आपका विकास नहीं होगा। जो भी आपके सामने आएगा वो समझेगा कि हम कुछ भी कह सकते हैं, चुनाव जीतकर जाएंगे और उसके बाद हम भूल जाएंगे, किसी को इसकी परवाह नहीं है, कोई हमसे जवाब नहीं मांगेंगा।


Makar Sankranti 2022: बाजारों में पंजाबी चिक्की, रामदाना समेत इन चीजों की बढ़ी डिमांड

Makar Sankranti 2022: बाजारों में पंजाबी चिक्की, रामदाना समेत इन चीजों की बढ़ी डिमांड

मकर संक्रांति पर्व को लेकर थोक और फुटकर बाजारों में ग्राहकों की रौनक रही। गजक, तिल के लड्डू, पंजाबी चिक्की, रामदाना समेत गुड़ और शक्कर के बने उत्पादों की अच्छी बिक्री हुई।

नया चावल और उड़द-मूंग की दाल भी खूब बिकी। हालांकि, बाजार में महंगाई की मार भी दिखी। सोशल डिस्टेंसिंग धड़ाम रही, तमाम ग्राहक मास्क तक नहीं लगाए थे। 

कानपुर नमकीन, बेकरी, गजक, पेठा एसोसिएशन के अध्यक्ष निर्मल त्रिपाठी ने बताया कि पिछले साल की तुलना में गुड़ और शक्कर के दाम बढ़े हैं। पिछले साल की तुलना में करीब 10-15 फीसदी दाम तेज हैं। गुड़ की गजक 240 रुपये किलो बिकी। गुड़ रोल और पंजाबी चिक्की का भाव 260 रुपये किलो रहा।

काले तिल का लड्डू 280 और सफेद तिल का लड्डू 260 रुपये किलो में बिका। बाजार में ग्राहकों की पसंद को देखते हुए चॉकलेट, खोवा, मेवा गजक भी हैं। इसके दाम अलग-अलग क्वालिटी के अनुसार 400 से 600 रुपये किलो तक है। महामंत्री शंकर लाल मतानी ने बताया कि बाजार में अच्छी संख्या में ग्राहक थे।

दोनों प्रकार के तिल के लड्डू, रामदाना, लइया की भी अच्छी डिमांड देखने को मिली। चावल और दाल कारोबारी सचिन त्रिवेदी ने बताया कि खिचड़ी में नया चावल ही इस्तेमाल में आता है। इसके चलते चावल और दालों की अच्छी बिक्री हुई।