दोस्त से मिलने देहरादून पहुंचे भोपाल के युवक ने खाया जहर, मौत

दोस्त से मिलने देहरादून पहुंचे भोपाल के युवक ने खाया जहर, मौत

दोस्त से मिलने भोपाल से देहरादून पहुंचे एक युवक ने संदिग्ध परिस्थितियों में जहर खा लिया, जिससे उसकी मौत हो गई। पुलिस जहर खाने के कारणों का पता कर रही है।

इंस्पेक्टर वसंत विहार देवेंद्र चौहान ने बताया कि दशहरा मैदान, टीटी नगर, भोपाल मध्य प्रदेश निवासी विनीत सिरमैया शुक्रवार सुबह दोस्त से मिलने के लिए देहरादून के आशीर्वाद एन्क्लेव पहुंचा था। रात को खाना खाने के बाद वह बगल वाले कमरे में सो गया। आधी रात में विनीत ने अपने दोस्त से कहा कि उसकी तबीयत ठीक नहीं है। इस पर विनीत को सिनर्जी अस्पताल ले जाया गया, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। पुलिस ने बताया कि विनीत ने बीटेक किया हुआ था। उसके स्वजन भी देहरादून पहुंच गए हैं। हालांकि पूछताछ के दौरान उन्होंने कोई जानकारी नहीं दी। पुलिस अपने स्तर से घटना के कारणों का पता कर रही है।

दस्तावेजों में छेड़छाड़ कर दूसरे के नाम पर लिया ऋण


फर्जी दस्तावेज तैयार कर जालसाज ने एक व्यक्ति के नाम से 16.23 लाख रुपये का ऋण ले लिया। पीड़ि‍त को इसका पता तब चला, जब उनके पास ऋण की किश्त भरने के लिए फोन आया। पीड़ि‍त की तहरीर पर पटेलनगर कोतवाली पुलिस ने इस मामले में अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है।


पटेलनगर कोतवाली के निरीक्षक प्रदीप राणा ने बताया, शिकायतकर्ता भरत सिंह निवासी ब्रह्मपुरी माजरा ने बताया कि उन्हें बीती 13 अगस्त को टाटा कैपिटल फाइनेंस सर्विस से ऋण की किश्त जमा करने के लिए फोन आया था। जबकि, उन्होंने उक्त कंपनी से कभी लोन लिया ही नहीं। इसके बाद भरत ने छानबीन की तो पता चला कि उनके नाम से तीन अलग-अलग कंपनियों से ऋण लिया गया है। इसमें टाटा कैपिटल फाइनेंस सर्विस राजपुर रोड से चार लाख, फुलर्टन इंडिया क्रेडिट कंपनी राजपुर रोड से पांच लाख 13 हजार और हीरो फिनकार्प लोन एजेंसी से सात लाख नौ हजार रुपये का ऋण शामिल है। शिकायतकर्ता ने बताया कि किसी व्यक्ति ने उनके आधार कार्ड और पैन कार्ड के साथ छेड़छाड़ कर कंपनियों के कर्मचारियों के साथ मिलीभगत कर लोन लिया है।


शहीद अजय रौतेला को सैन्य सम्मान के साथ नम आंखों ने दी अंतिम विदाई

शहीद अजय रौतेला को सैन्य सम्मान के साथ नम आंखों ने दी अंतिम विदाई

जम्मू के पुंछ में आतंकवादियों के साथ हुई मुठभेड़ में शहीद हुए गढ़वाल राइफल्स और वर्तमान में 48 राष्ट्रीय राइफल के सूबेदार अजय सिंह रौतेला को सैन्य सम्मान के साथ सैकड़ों नम आंखों ने अंतिम विदाई दी ऋषिकेश के चंद्रेश्वर मोक्ष धाम घाट पर वीर सपूत पंचतत्व में विलीन हुआ। उनके बड़े पुत्र अरुण रौतेला ने उन्हें मुखाग्नि दी।


14 अक्टूबर को जम्मू-कश्मीर के पुंछ में आतंकवादियों के साथ हुई मुठभेड़ में टिहरी जिले के दो सैनिक शहीद हुए थे। जिसमे खाड़ी टिहरी गढ़वाल निवासी सूबेदार अजय सिंह रौतेला (46 वर्ष) ने भी मातृभूमि के लिए महान शहादत दी।

रविवार को शहीद अजय सिंह रौतेला का पार्थिव शरीर जौलीग्रांट पहुंच गया था। जहां से सोमवार की सुबह शहीद अजय सिंह रौतेला के पार्थिव शरीर को उनके मूलगांव ले जाया गया। अंतिम दर्शन के पश्चात शहीद की अंतिम यात्रा दोपहर 12 बजे ऋषिकेश के चंद्रेश्वर मुक्तिधाम पहुंची।


मुक्तिधाम में सेना की 306 आर्टलरी फील्ड रेजीमेंट की टुकड़ी ने शहीद अजय सिंह रौतेला को शास्त्र सलामी दी। भारतीय सेना की ओर से आर्टिलरी फील्ड रेजीमेंट के कर्नल अजय कौशिक व राष्ट्रीय रायफल के सूबेदार योगेंद्र नेगी ने उन्हें पुष्प चक्र अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। कर्नल अजय कौशिक ने शहीद के पुत्र अरुण रौतेला को राष्ट्रीय ध्वज भेंट किया।

वहीं, प्रदेश सरकार की ओर से विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल कृषि मंत्री सुबोध उनियाल ने अमर शहीद को पुष्प चक्र अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। प्रशासन की ओर से जिलाधिकारी टिहरी ईवा श्रीवास्तव, एडिशनल एसपी राजन कुमार, पुलिस उपाधीक्षक नरेंद्र नगर आरके चमोली पुलिस उपाधीक्षक ऋषिकेश डीसी धौंडियाल, नरेंद्र नगर के पूर्व विधायक ओमगोपाल रावत, सूबेदार प्रेमाराम, ऋषिकेश नगर निगम महापौर अनीता ममगांई, अजय के चाचा जबर सिंह रौतेला, उप जिलाधिकारी देवेंद्र सिंह नेगी, ऋषिकेश की उप जिला अधिकारी अपूर्वा, तहसीलदार अमृता शर्मा आदि ने उन्हें श्रद्धा सुमन अर्पित किए।

बारिश के कारण बदलना पड़ा स्थान

शहीद अजय सिंह रौतेला के अंतिम संस्कार का कार्यक्रम मुनिकिरेती के होना तय किया गया था। यहां पर सेना की ओर से तैयारियों की की गई थी। मगर, सुबह से लगातार बारिश के कारण अंत में अंतिम संस्कार के लिए ऋषिकेश मुक्तिधाम को चुना गया।

शहीद की शान में गगनभेदी नारों से गूंजा आकाश

शहीद अजय सिंह रौतेला का पार्थिव शरीर जब मुक्तिधाम पहुंचा तो यहां पहले से ही उन्हें अंतिम विदाई देने के लिए बड़ी संख्या में नागरिक व जनप्रतिनिधि पहुंचे थे। नागरिकों ने शहीद के सम्मान में जब तक सूरज चांद रहेगा अजय रौतेला नाम रहेगा..., अजय रौतेला तुम्हारा बलिदान नहीं भूलेगा हिंदुस्तान..., अजय रौतेला जिंदाबाद..., भारत माता की जय... और पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाए। गगनभेदी नारों से पूरा माहौल गूंज उठा।