चोरों ने चुरा लिया वोदका कंपनी का 8.5 लाख रुपए का आइसबर्ग से बना पानी

चोरों ने चुरा लिया वोदका कंपनी का 8.5 लाख रुपए का आइसबर्ग से बना पानी

कनाडा के न्यूफाउंडलैंड में एक अजीबोगरीब चोरी का मामला सामने आया है। इस कारनामे में बीते सप्ताह के आखीर में चोरों ने एक वोदका कंपनी से 30 हजार लीटर पानी चोरी कर लिया। अगर आप सोच रहे हैं कि इसमें क्या खास है या पानी की चोरी करके क्या होगा तो जान लें कि चोरी हुआ पानी साधारण नहीं, बल्कि एक आइसबर्ग का था। ये पानी बेहद शुद्ध होता है जिसकी वजह से इसका इस्तेमाल महंगी वोदका (शराब) और कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स बनाने में किया जाता है। आइसबर्ग वोदका कंपनी की मानें तो चोरी हुए पानी की कीमत करीब 8.5 लाख रुपए थी।

कंपनी से जुड़े हुए थे चोर

पुलिस को अब इन चोरों को तलाश रही है, उनको शक है कि ये एक अकेले व्यक्ति का नहीं बल्कि पूरे गैंग का काम है और चोरों ने इस घटना को एक बार में नहीं बल्कि कुछ दिनों में रुक रुक कर अंजाम दिया है। पुलिस वालों को ऐसा भी लगता है कि चोरों को पानी के कंटेनर्स ouर उसकी उपयोगिता के बारे में भी जानकारी थी। इसी वजह से उन्हें ये भी लगता है कि ये कुछ अंदरूनी लोगों का काम हो सकता है। राॅयटर्स के अनुसार ऐसा ही कुछ कंपनी के सीईओ डेविड मायर्स का भी मानना है, जिन्होंने घटना पर हैरान होते हुए कहा कि इस चोरी में सब ना भी सही पर कोई एक तो जरूर कंपनी के अंदर का व्यक्ति भी शामिल है, क्योंकि एक पूरा टैंक बिना उसकी मदद के खाली नहीं हो सकता है। इस शक की बड़ी वजह ये है कि कंटेनर के खुफिया लॉक्स के पासवर्ड बाहर वालों को पता नहीं हो सकते।

इंश्योरेंस के बावजूद है परेशानी

सीईओ मायर्स की एक सबसे बड़ी परेशानी ये है कि बेशक उन्होंने पानी का इंश्योरेंस करवाया हुआ था, लेकिन इसके बावजूद दिक्कत कम नहीं होगी। एेसा इसलिए है कि एक साल में सामान्य रूप से एक ही बार समुद्र में तैर रहे आइसबर्ग को तोड़ कर पानी निकाला जा सकता है। सर्दियों में आइसबर्ग पूरी तरह से ठोस होते हैं और उनको तोड़ा नहीं जा सकता। एेसे में पैसा मिलने के बावजूद आॅर्डर्स पूरे करना मुमकिन नहीं हो पायेगा। वैसे एक संभावना ये भी है कि चोर वास्तव में वोदका की चोरी करने आए हों और उन्होंने पानी गलती से पानी का टैंकर खाली कर लिया हो।

पूरी सुरक्षा रहती है

कंपनी से जुड़े लोगों ने पुलिस को बताया कि ये चोरी वाकर्इ हैरान करने वाली है क्योंकि टैंकर्स को बेहद सुरक्षा में रखा जाता है आैर हर समय उनके आसपास कोर्इ ना कोर्इ रहता है। यही वजह है कि घटना सप्ताहंत में हुर्इ जब लगभग सारा स्टाफ छुट्टी पर था। जब नए सप्ताह के पहले दिन सब काम पर वापस आये तो पाया कि एक टैंकर में पानी एक भी बूंद शेष नहीं थी।

कैसे मिलता है आइसबर्ग से पानी

कंपनी के सूत्रों ने बताया कि आइसबर्ग से पानी निकालने की प्रक्रिया काफी कठिन होती है। पहले तो सरकार से इसकी इजाजत लेनी पड़ती है फिर कुछ जाल, हाइड्रॉलिक मशीनों, राइफल और काटने वाली मशीनों की मदद से आइसबर्ग को तोड़ कर अलग किया जाता है। टूटने के बाद उसे एक स्पीडबोट की मदद से किनारे तक खींच कर लाया जाता है और क्रेन से उठाकर कंटेनर में पहुंचाया जाता है। आखीर में भाप से इसे साफ करके इस्तेमाल के लायक बनाया जाता है।


इस में सफर के दौरान नवजात बच्चे की मां ने साथी यात्रियों से क्यों मांगी माफी!

इस में सफर के दौरान नवजात बच्चे की मां ने साथी यात्रियों से क्यों मांगी माफी!

कुछ दिन पहले एक महिला अपने चार महीने के बच्चे को लेकर हवाई यात्रा पर जा रही थी। ये उसके चार महीने के बच्चे की पहली यात्रा थी और उस महिला को लग रहा था कि बच्चा सफर में परेशान कर सकता है। इस मौके पर सहयात्रियों से शिकायत मिलने की संभावना से घबराई हुई महिला ने पहले से ही क्षमा याचना करने का फैसला किया और इसके लिए अनोखा कदम उठाया जिसकी सोशल मीडिया पर काफी चर्चा हो रही है।

क्या था मामला

फेसबुक पर वायरल हो रहे एक पोस्ट के अनुसार पिछले दिनो सियोल से सैन फ्रान्सिसको की एक फ्लाइट में सफर कर रही महिला यात्री के साथ उसका चार महीने का बच्चा भी था। महिला ने जहाज के उड़ान भरने के पहले ही गुडी पैकेट के साथ एक माफीनामा सभी सहयात्रियों को दिया। इस माफी नामे को उसके बच्चे की और से संबोधित करके लिखा गया था और उसमें कहा गया था कि अगर अपनी पहली यात्रा के दौरान बच्चा घबराहट में हंगामा करे तो उसे अन्यथा ना लें और सहयोगात्मक रवैया रखें। शोर से बचने के लिए इर्यर प्लग को अपने कान में लगाने की भी सलाह दी गई। ये पोस्ट जहाज में यात्रा कर रही एक अन्य यात्री ने साझा की है। 

 क्या था पत्र और पैकेट में

उस माफीनामे में लिखा था कि हैलो, मै जुनवू हूं जो थोड़ा नर्वस और डरा हुआ हूं, क्योकि ये मेरी पहली फ्लाइट है। उसमें ये भी लिखा था कि इसी वजह से मैं शायद शोर मचा सकता हूं। प्लीज मुझे माफ करना। इसके साथ पैकेट में कुछ गुडीज और इर्यर प्लग भी था। पत्र और गुडी पैकेट की तस्वीर देख कर कई लोग भावुक हो गए और उन्होंने इस कदम की काफी सराहना की है। कुछ लोगों का कहना है कि महिला को क्षमा मांगने की कोई जरूरत नहीं थी बच्चे ऐसे ही होते हैं। हालाकि इस पोस्ट के अनुसार बच्चे ने सफर में किसी को भी परेशान नहीं किया।

पहला मौका नहीं है

वैसे ये पहली बार नहीं है जब बच्चों के चलते होने वाली असुविधा के लिए हवाई यात्रियों ने साथी पैसेंजर्स से माफी मांगी हो। पहले भी ऐसे मामले सामने आये हैं। यहां तक कि सेलेब्रिटीज भी इससे अछूती नहीं रही हैं। एक खबर के अनुसार बीते साल हाॅलीवुड स्टार जार्ज क्लूनी और उनकी पत्नी अमाल ने भी अपने नन्हें बच्चों के साथ सफर करते हुए फर्स्ट क्लास के सह यात्रियों से यात्रा शुरू होने के पहले ऐसा ही कुछ किया था।


रिद्धिमा पंडित ने बयां किया मां को खोने का दर्द       कोविड-19 से उबरने के बाद भूमि पेडनेकर बनीं ‘COVID WARRIOR'       गर्मियों में बीमारियों से बचने के लिए ध्यान रखें ये विशेष बातें       राजेश खन्ना के बंगले में जमीन पर बैठते थे डायरेक्टर-प्रोड्यूसर       अथिया शेट्टी ने किया rumoured बॉयफ्रेंड KL Rahul को बर्थडे विश       रिजिजू ने कहा कि टोक्यो ओलंपिक में डबल डिजिट में पदक आने की उम्मीद       कुम्भ मेले से लौटने वाले लोग बढ़ा सकते हैं कोरोना महामारी को : संजय राउत       अखिलेश ने कहा कि लखनऊ कैंसर इंस्टीट्यूट को कोरोना मरीजों के लिए खोले योगी सरकार       राज ठाकरे ने कहा कि प्रवासी मजदूर हैं महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के तेजी से फैलने के लिए जिम्मेदार       योगी सरकार के मंत्री ने ही लखनऊ में कोरोना हालात पर उठाए सवाल, CM पृथक-वास में       किसी वर्ग का नहीं, सबका होता है मुख्यमंत्री: योगी आदित्यनाथ       यूपी में कोरोना का कहर, योगी सरकार ने उठाए ऐहतियाती कदम       रमजान समेत अन्य त्योहारों को लेकर बोले सीएम योगी       उत्तरप्रदेश में टूटा Corona का कहर, एक दिन में मिला इतने नए केस       दिल्ली के बाद UP में भी लगा Lockdown, बंद रहेंगे सभी बाजार और दफ्तर       High Level मीटिंग के दौरान Nude दिखे कनाडा के सांसद       हवा के जरिए फैलता है कोरोना, 'द लांसेट' की रिपोर्ट में मिले पक्के सबूत       कोरोना वायरस रोधी टीके है कम असरदार, चीन के अधिकारी का दावा       रेप की घटनाओं पर इमरान खान का बेतुका बयान, कहा...       फ्रांस से तीन और राफेल विमान बिना रुके पहुंचे भारत