कोविड-19 की आड़ में देशभर में साइबर अपराध हुआ तेज

कोविड-19 की आड़ में देशभर में साइबर अपराध हुआ तेज

लॉकडाउन ( Lockdown ) में साइबर अपराध ( Cyber Crime ) के मामलों में बढ़ोतरी देखने को मिली है. पिछले 2 महीने के अंदर साइबर अपराध के सबसे ज्यादा मुद्दे केरल से सामने आए हैं. लोगों की विवशता का लाभ साइबर अपराधी उठा रहे हैं.

केरल में सामने आए 2000 साइबर अपराध के मामले

लॉकडाउन के दौरान केरल से करीब 2000 साइबर अपराध के मुद्दे सामने आए हैं. यह जानकारी आईटी सिक्योरिटी सॉल्यूशन प्रोवाइडर ( IT Security Solution Provider ) के 7 कंप्यूटिंग की एक विश्लेषण (Analysis) से सामने आई है. इस रिपोर्ट में हिंदुस्तान के भिन्न-भिन्न इलाकों में हो रहे साइबर अटैक का विस्तृत ब्यौरा उपलब्ध है. इसमें पता चलता है कि कोविड-19 की आड़ में देशभर में साइबर अपराध तेजी से फैल रहा है. खासकर फरवरी से मिड अप्रैल के बीच इस अपराध ग्राफ में आकस्मित बढ़ोतरी दर्ज हुई है. इससे पता चलता है कि महामारी के दौर में ये जालसाज संसार के साथ तेज़ी से ठगी कर रहे हैं.

इन इलाकों में ज्यादा लोग बन रहे हैं निशाना

केरल के कोट्टायम, कन्नूर, कोल्लम व कोच्चि जैसे इलाकों में खासकर साइबर अपराध के मुद्दे अधिक सामने आए हैं. यहां 100 से लेकर 500 तक क्राइम सामने आए हैं. लॉकडाउन के दौरान सारे प्रदेश में कुल 2000 मुद्दे सामने आए हैं. केरल के अतिरिक्त पंजाब व तमिलनाडु में भी साइबर अपराध में बढ़ोतरी देखी गई है. पंजाब में 207 व तमिलनाडु में 184 साइबर अपराध के मुद्दे सामने आए हैं.

WHO के नाम पर हो रहे हमले

बताया जा रहा है कि सबसे ज्यादा फिशिंग के मुद्दे दर्ज किए जा रहे हैं. हमलावर लोगों से अमरीका के ट्रेजरी विभाग या WHO के किसी झूठी पहचान का सहारा लेकर धोखा देते हैं. ये लोग यूजर्स को लालच देने के लिए कई सुन्दर लिंक भेजते हैं, इनपर क्लिक करते ही मालवेयर डाउनलोड हो जाता है. कोरोनासफेटीमास्क ऐप समेत कई साइट इसके उदाहरण हैं.