अपने ही देश के इस राज्य में भारत के लोगों का जाना है मना

अपने ही देश के इस राज्य में भारत के लोगों का जाना है मना

आप यह सुनकर हैरान रह जाएंगे कि अपने ही देश के इस राज्य में जाने के लिए आपको परमीशन लेने की जरूरत होती है। अपने ही देश के किसी राज्य में  जाने के लिए वीजा की जरूरत होती है। ऐसा सुनकर आपको अजीब लग रहा होगा, लेकिन ये सच है। देश में एक ऐसा राज्य है, जहां जाने के लिए आम लोगों को वीजा यानि इनर लाइन परमिट की जरूरत होती है।

फिलहाल भारत में सिर्फ नागालेंड राज्य में ही इनर लाइन परमिट सिस्टम लागू है। बंगाल ईस्टर्न फ्रंटियर रेग्यूलेशन्स, 1873, सीमित अवधि के लिए किसी संरक्षित, प्रतिबंधित क्षेत्र में दाखिल होने के लिए यह अनुमति देता है। इस क्षेत्र में नौकरी अथवा किसी प्रकार के पर्यटन के लिए जाने के लिए भी आपको परमिशन लेने की जरूरत होती है।


 
नागालैंड में फिलहाल बिना अनुमति के जाना मना है। केवल स्थानीय लोग ही यहां बिना किसी रोक-टोक के कहीं भी आ-जा सकते हैं। इससे पहले जम्मू-कश्मीर में भी इनर लाइन परमिट लागू थी, हालांकि श्यामा प्रसाद मुखर्जी द्वारा आंदोलन करने के जम्मू-कश्मीर में परमिट सिस्टम को खत्म कर दिया गया था। 

जबकि नागालैंड में यह सिस्टम अभी तक लागू है। बताया जाता है कि आजादी से पहले ब्रिटिश सरकार ने यहां पर इनर लाइन परमिट सिस्टम लागू किया था। दरअसल, नागालैंड क्षेत्र में प्राकृतिक औषधि और जड़ी-बूटियों का प्रचुर भंडार था। ब्रिटिश सरकार इसे ब्रिटेन भेजा करती थी। औषधियों पर किसी दूसरे की नजर न पड़े, इस कारण उन्होंने नागालैंड में इनर लाइन परमिट शुरु किया था।


 
हालांकि आजादी के बाद भी अभी तक वहां इधर इनर लाइन परमिट सिस्टम जारी है । अब तर्क दिया जाता है कि नागा आदिवासियों की कला-संस्कृति, बोलचाल, रहन-सहन देश के अन्य लोगों से काफी अलग है। इनके संरक्षण के लिए राज्य में इनर लाइन परमिट सिस्टम होना जरूरी है। जिससे कि बाहरी लोग यहां की संस्कृति प्रभावित न कर सकें।


यहां मृत्यु होने पर डांस के लिए बुलाई जाती है स्पेशल आइटम गर्ल्स, करती है पोल डांस

यहां मृत्यु होने पर डांस के लिए बुलाई जाती है स्पेशल आइटम गर्ल्स, करती है पोल डांस

अक्सर आपने देखा होगा इंसान के मरने पर मातम का माहौल होता है सब गम में डूबे होते है लेकिन जिसका जन्म हुआ है उसका मरना भी निश्चित है। आज हम आपको ऐसे देश के बारे में बताने जा रहे हैं जहां पर शोक सभा में कॉल गर्ल्स को बुलाया जाता है। मातम की खुशियां मनाई जाती है। 

बुलाई जाती है स्पेशल आइटम गर्ल्स

चीन में लोग मरने पर कॉल गर्ल्स को बुलाते हैं जो शोक सभा में कॉफिन के आस-पास घूमकर डांस करती है। चीन के लोगों का मानना है कि यहां अगर कॉल गर्ल्स को बुलाया जाता है तो लोगों की संख्या अधिक होती है। इससे ऐसा माना जाता है जितनी ज्यादा भीड़ होती है मृतक की आत्मा को शांति मिलती हैं।


ऐसे मिलती है आत्मा को शांति:

भीड़ तो इकट्ठा हो जाती है ले​किन बुर्जुग और बच्चे मौजूद नहीं होते हैं। ऐसा इसलिए वह एडल्ट कंटेंट होता है। इतना ही नहीं कॉल गर्ल्स जीप के ऊपर खड़ें होकर परफॉर्म करती है। चारों और खुशियां मनाई जाती है। 


CM योगी का निर्देश- कोरोना के साथ बरसात के मौसम में संचारी रोग से निपटने को तैयार रहें       प्रदेश में 21 जून से 50 फीसद क्षमता के साथ खुलेंगे मॉल्स और रेस्टोरेंट, नाइट ​कर्फ्यू में भी छूट       बहुत कुछ कह रहा अंतिम नरसंहार स्थल मियांपुर, देवमतिया और सीता से जानें क्‍यों सिहर उठती हैं महिलाएं       अमीरों का घर पक्का, गरीबों को लग रहा धक्का, यहां के पंचायतों में इंदिरा आवास का हाल-बेहाल       एक तो लॉकडाउन के कारण महीनेभर बंद रही दुकान, ऊपर से जल गया सारा सामान       कैमूर के जंगल में हो रही 'जहर की खेती'; पुलिस ने जाल बिछाया तो फंस गया 'सौदागार'       ग्रामीण भारत की गर्मियों का शब्दचित्र, प्रख्यात लोकगायिका मालिनी अवस्थी की कलम से...       कैमूर ने दिखाई समझदारी और भाग गया वायरस, ढूंढने पर भी नहीं मिला एक भी कोरोना पॉजिटिव       बिहार LJP में चिराग के फैन्‍स की कमी नहीं, पशुपति पारस पर फूट रहा गुस्‍सा       कोरोना वायरस हमारे बीच है, जल्द लगवाएं वैक्सीन : राहुल गांधी       तेज बारिश को लेकर दिल्ली समेत इन राज्यों के लिए जारी किया गया अलर्ट       कोरोना वायरस का नया वैरिएंट 'डेल्टा+' आया सामने, जानें       केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने मानसून सीजन की तैयारियों को लेकर बैठक की       स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि 20 राज्यों में 5,000 से कम सक्रिय मामले       भारतीय सैन्य पुलिस में खुला नेपाली महिलाओं के लिए रास्ता       वियतनाम पहुंचेेगी जापान की ओर से भेजी गई कोरोना वैक्सीन की खेप       आर्मी कैंप में आत्मघाती हमला, 15 की मौत, बढ़ सकता है मौतों का आंकड़ा       पूरी दुनिया के लिए ये है एक अच्‍छी खबर, आपको भी पढ़कर लगेगा बहुत अच्‍छा       यरुशलम में मार्च निकालेंगे यहूदी गुट, हमास ने जताई फिर से हिंसा भड़कने की आशंका       इजरायल की नई सरकार को नेतन्याहू ने बताया 'कपटी', किया वादा- जल्द करूंगा सत्ता में वापसी