15 लाख में इंस्पेक्टर बनाने का ठेका लेता था गैंग, STF ने 3 को दबोचा

15 लाख में इंस्पेक्टर बनाने का ठेका लेता था गैंग, STF ने 3 को दबोचा

नयी दिल्ली: 15 लाख रुपये में दरोगा बनाने का ठेका लेने वाले एक गैंग के तीन सदस्यों को मंगलवार को गोरखपुर STF ने तारामंडल इलाके से हिरासत में लिया है. केंद्र संचालकों से मिलीभगत कर यह रैकेट बड़े स्तर पर अभ्यर्थियों को दरोगा की इम्तिहान पास कराने वाला था. STF को जानकारी मिली थी कि उपनिरीक्षक नागरिक पुलिस और अन्य पदों की डायरेक्ट भर्ती की औनलाइन परीक्षा-2021 में गोरखपुर में बड़े पैमाने पर फर्जीवाड़ा होने वाला है.

इसके बाद टीम सक्रिय हुई, तो पता चला कि अश्वनी दूबे केन्द्र संचालक माडेंटो वेन्चर्स प्रा लि , अनुभव सिंह क्लस्टर हेड NSEIT गोरखपुर, आशीष शुक्ला केन्द्र संचालक कैवेलियर एनीमेशन सेंटर NSEIT गोरखपुर, दीपक, दिवाकर उर्फ रिन्टू एवं सेनापति केंद्र संचालक सिद्धि विनायक औनलाइन सेंटर गोरखपुर, नित्यानन्द गौड़, संतोष यादव, रजनीश दीक्षित, केंद्र संचालक ओम औनलाइन सेंटर मिलकर नकल कराने की षड्यंत्र रच रहे हैं.

सूचना में बताया गया था कि ये लोग देवरिया बाईपास मोड़ पर कुछ अभ्यार्थियों से इम्तिहान में उत्तीर्ण कराने के नाम पर रुपए लेने वाले हैं. सूचना पर इंस्पेक्टर सत्य प्रकाश सिंह के नेतृत्व में टीम ने घेराबंदी कर तीन आरोपियों को अरैस्ट कर लिया.


शर्मनाक : दिल्ली में हैवान बन जीजा, नौ साल की बच्ची से किया दुष्कर्म

शर्मनाक : दिल्ली में हैवान बन जीजा, नौ साल की बच्ची से किया दुष्कर्म

राजधानी दिल्ली के गोविंदपुरी में रिश्तों को शर्मशार करने वाली घटना सामने आई हैं। नौ साल की बच्ची से उसके जीजा ने दुष्कर्म किया। घटना के बाद से बच्ची अवसाद में चली गई। परिजन जब उसे डॉक्टर के पास लेकर गए तो उसने आपबीती सुनाई। परिजनों की शिकायत पर पुलिस मामले की जांच कर रही है।

पीड़ित बच्ची परिवार के साथ गोविंदपुरी इलाके में रहती है। परिवार में माता-पिता व भाई-बहन हैं। पीड़िता की बड़ी बहन की शादी शादी उत्तर प्रदेश के पीलीभीत के रहने वाले युवक के साथ हुई है। इस साल रक्षाबंधन पर उसकी उसकी बहन अपने पति के साथ भाई को राखी बांधने के लिए आई हुई थी। शाम को परिजन बाहर चले गए। घर में बच्ची व उसके जीजा थे। इस दौरान बच्ची के जीजा ने उसके साथ जबरन दुष्कर्म किया। घटना के बाद से वह गुमसुम रहने लगी और अवसाद में चली गई। परिजन बच्ची को गुमसुम देखकर परेशान रहने लगे। वह परिजनों को कारण भी नहीं बता रही थी।

परिजनों ने जादू-टोना समझाकर झाड-फूंक कराया, लेकिन कोई असर नहीं हुआ। इसके बाद डॉक्टर के पास लेकर गए। जहां बच्ची की काउसलिंग की गई। इसके बाद बच्ची ने आप बीती सुनाई। मंगलवार को परिजनों ने गोविंदपुरी थाने में मामले की शिकायत दर्ज कराई है। पुलिस ने शिकायत के आधार पर मामले की जांच कर रही है।