दुनिया का सबसे खतरनाक चिड़ियाघर, जहां पिंजरे में कैद होकर जाते हैं टूरिस्ट

दुनिया का सबसे खतरनाक चिड़ियाघर, जहां पिंजरे में कैद होकर जाते हैं टूरिस्ट

आपको ये जानकर भले ही अजीब लग रहा होगा या फिर आपको इस बात पर यकीन ना हो रहा होगा, लेकिन ये बात एकदम सच है। चीन का लेहे लेदु वाइल्ड लाइफ जू इसी तरह का चिड़ियाघर है। यहां खूंखार जानवर हमेशा खुलेआम घूमते हैं, उन्हें देखने के लिए लोग पिंजरों में कैद होकर आते हैं। यहां तक कि कई बार शेर और चीता जैसे खूंखार जानवर उनके इतने पास पहुंच जाते हैं लोगों की चीख निकल जाती है।

चीन का यह वाइल्ड लाइफ चिड़ियाघर चौंगक्विंग शहर में स्थित है। साल 2015 में इस चिड़ियाघर को खोला गया था। लेहे लेदु वाइल्डलाइफ जू नामक इस चिड़ियाघर में इंसानों को जानवरों के करीब जाने का बहुत ही अनोखा मौका मिलता है। सैलानी यहां के जानवरों को अपने हाथों से खाना भी खिला सकते हैं।


 यहां इंसानों को पिंजरों में भरकर जानवरों के आसपास लाया जाता है। इस दौरान शेर इंसानों को पिंजरे में देखकर ललचाते रहते हैं। वह उन्हें खाने के लालच में पिंजरे के पास आ जाते हैं। यहां तक कि वह पिंजरे के ऊपर भी चढ़ जाते हैं, लेकिन पिंजरा होने की वजह से वह किसी को अपना शिकार नहीं बना पाते।

वाइल्ड लाइफ जू के संरक्षकों के अनुसार, अपने दर्शको को हम सबसे अलग और रोमांचकारी अनुभव करवाते हैं। जू के प्रवक्ता चान लियांग ने कहा कि जब कोई जानवर आपका पीछा करता है अथवा जब वह हमला करता है, हम उस वक्त के अनुभव को अपने दर्शकों को महसूस करवाना चाहते हैं। चिड़ियाघर में घूमने आए लोगों की सुरक्षा को लेकर यहां सख्त निर्देश दिए जाते हैं।

इसके अलावा सुरक्षा को लेकर इस चिड़ियाघर में पुख्ता इंतेजाम किये गये हैं। 24 घंटे कैमरों से पिंजरों और जानवरों पर निगाह रखी जाती है। आपातकाल स्थिति में सिर्फ 5 से 10 मिनट में मदद पहुंचाई जाती है। जिससे किसी को कोई चोट ना पहुंचे।


शादी के दौरान दूल्हा-दुल्हन क्यों नहीं पहनते हैं काले कपड़े, जानिए बड़ा राज

शादी के दौरान दूल्हा-दुल्हन क्यों नहीं पहनते हैं काले कपड़े, जानिए बड़ा राज

शादी हर किसी के जीवन का सबसे बड़ा सपना होता है। हिंदू धर्म में विवाह को सोलह संस्कारों में से एक संस्कार माना गया है। हिन्दू विवाह पद्धति में कुछ परंपराएं ऐसी हैं जिनका निर्वाह प्राचीन काल से किया जा रहा है जैसे शादी के समय दूल्हा-दुल्हन को काले कपड़े न पहनने देना।

क्यों नहीं पहनते हैं काले कपड़े:

काला रंग अशुभता का प्रतीक है। काला रंग ओजस्विता कम करता है, अवसादकारक एवं उत्पीड़क बोझ देने वाला है। दुल्हन के लिए बनाए जानी वाली प्रत्येक वस्तु में लाल रंग को अत्यधिक महत्व दिया जाता है। लाल रंग गर्मजोशी और मनोबल बढ़ाता है साथ ही लाल रंग प्यार, रोमांस और पैशन का प्रतीक माना जाता है।

वैज्ञानिक दृष्टि से देखा जाए तो लाल रंग ऊर्जा का मुख्य स्तोत्र है। जिससे सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह होता है। इसके विरुद्ध दूल्हा-दुल्हन के लिए नीले, भूरे और काले रंगों को निषिद्ध किया गया हैं क्योंकि ये रंग नकारात्मकता का प्रतीक हैं।